मंत्री आशुतोष टंडन के विभाग में भ्रष्टाचारियों का बोलबाला, विवादित आरके सिंह को मिला एकेटीयू में अहम पद

लखनऊ. मंत्री अशुतोष टण्डन के विभाग में भ्रष्टाचारियों की मौज हो रही है। एकेटीयू में सुरक्षाकर्मी आरके सिंह को डिप्टी रजिस्ट्रार बना दिया गया है। बताया जाता है कि आरके सिंह के साथ ही एक दर्जन से ज्यादा कर्मचारियों की नियुक्तियों में जमकर भ्रष्टाचार हुआ। आरके सिंह पर जानकीपुरम थाने में मुकदमा दर्ज़ हुआ था। एकेटीयू प्रशासन को इस बात की जानकारी थी लेकिन बताया जाता है कि उपर से दबाव की वजह से आर के सिंह को यह पद दिया गया। अवर अभियंता आशीष मिश्रा की नियुक्ति पर भी सवाल उठाए जा रहे हैं। आरके सिंह के भ्रष्टाचारों की जांच की जा रही है। जांच टीम को अभी तक आर के सिंह के दैनिक वेतन पर नियुक्ति के आदेश और प्रथम नियुक्ति पत्र नहीं दिखाया गया। पवन त्रिपाठी, रामसागर, प्रदीप श्रीवास्तव की नियुक्ति पर भी गम्भीर सवाल उठाए जा रहे हैं। जिनकी नियुक्ति पर सवाल उठाए जा रहे हैं उन्हीं को एकेटीयू में अच्छे पद दिए गए हैं। इतना ही नहीं, शासनादेश द्वारा निर्धारित तिथि के बाद कर दी गयी तैनाती। मदन मोहन मालवीय प्राविधिक विश्वविद्यालय के कुलपति एसएन सिंह की जांच रिपोर्ट में खुलासा हुआ है। एसएन सिंह ने स्पष्ट लिखा कि विनियमितीकरण में भ्रष्टाचार की शिकायतें मिली हैं। शासन को भेजी अपनी रिपोर्ट में एसएन सिंह ने कहा कि आरके सिंह समेत कई कर्मचारियों की नियुक्ति सम्बंधित दस्तावेज नहीं मिले हैं।