चीन में बढ़ेगा भारतीय कालीन का निर्यात, बनेगा वेयरहाउस, निर्यातक रख सकेंग माल

भदोहीः  विदेशी बाजारों में भारतीय कालीन उद्यमियों के अच्छे दिन आने वाले हैं। अब जल्द ही चाइना में भारतीय कालीनों का दबदबा देखने को मिलेगा। इसके लिए भारत सरकार के सहयोग से कालीन निर्यात को बढ़ावा देने के लिए चाइना में जल्द ही एक वेयरहाउस खुलेगा। 

इसके बारे में कपड़ा मंत्रालय के अधीन कालीन निर्यात सम्वर्धन परिषद के चेयरमैन महावीर शर्मा ने भदोही में आयोजित एक पत्रकार वार्ता में बताया कि चाइना के ईयू शहर में एक वेयर हाउस खोलने की तैयारी है जिसके लिए सरकार के सहयोग से लगभग सभी औपचारिकताएं पूरी कर ली गयी हैं।

इससे भारत का कालीन निर्यात दो हजार करोड़ तक बढ़ सकता है। वहां वेयर हाउस बनने से निर्यातक अपना माल रख सकेंगे और मार्केटिंग कर सकेंगे। इसके लिए परिषद ने चीन में एक कम्पनी भी रजिस्टर्ड कराई है जो वहां पर निर्यातकों के उत्पाद हो रखेगी जहां से निर्यातक खुद भी अपने माल आयातक को दे सकेगी और परिषद भी निर्यातको के उत्पादों की मार्केटिंग कराएगी। इससे छोटे निर्यातको को काफी फायदा होगा।

उन्होने कहा कि चाइना में ड्यूटी व वैट मिलाकर 34 फीसदी है जिसे कम कराने का प्रयास हो रहा है। चाइना में कुल पांच फेयर आयोजित होते हैं जिसमे भारत के काफी निर्यातक भाग लेते हैं।

इस वेयरहाउस बन जाने से वह अपने उत्पादों को वहां रख सकेंगे जिससे बार बार उत्पाद चाइना से इंडिया वापस न लाना पड़े और निर्यातक अपने उत्पाद की वहां मार्केटिंग कर सकेंगे। कालीन उद्योग ने भी इस वेयरहाउस के सौगात का स्वागत किया है।