पंजाब खेतीबाड़ी विभाग की तरफ से हर साल की तरह कृषि विज्ञान केंद्र रोनी में किसान मेले का हुआ आयोजन

पटियाला (रोणी)

पंजाब के किसानों को खेतीबाड़ी प्रति जागरूक के लिए रोनी (पटियाला) मे किसान मेला का किया गया अयोजन

जहां पंजाब एग्रीकल्चरल युनिवर्सिटी लुधियाना से माहिर कृषि वैज्ञानिक पहुंचे  और किसानों को रवायती फसलों,सब्जियों और फलों की खेती और उसकी देखभाल बारे में जानकारी दी गयी.मेले में खेती से जुडी आधुनिक मशीनरी,उपकरणों और हाईब्रिड बीजों के स्टाल भी आकर्षण का केंद्र रहे और किसानों ने भरपूर जानकारी हासिल की.मेले दौरान मुख्य मेहमान के तोर पर पहुंचे डायरेक्टर डॉ राजबीर सिंह ने कहा की किसान पराली को जलाये नहीं बल्कि आधुनिक साधनों से उसका सही इस्तेमाल करें चूँकि पंजाब पर आरोप लगाया जाता है की नाड जलाने से राजधानी तक वायु प्रदूषण फैल जाता है इसलिए वातावरण को दूषित होने से बचाना चाहिए।मेले में विशेष तौर पर पहुंचे पंजाबी कॉमेडियन जसविंदर भल्ला ने किसान ख़ुदकुशी बढ़ते मामलों पर कहा की किसान को इस राह से दूर करने को उम्दा सेमीनार करवाए जाने चाहिए।इसके साथ ही किसानों को भी चाहिए की खेती के लिए कर्ज को वहीँ इस्तेमाल करना चाहिए ना की कार या ट्रेक्टर खरीदने चाहिए।

IMG_20170920_185001.jpg

उन्होंने कहा की पंजाब का किसान बहुत दलेर है और देश का अनदाता है उसे ख़ुदकुशी की राह पर नहीं चलना चाहिए।पंजाब खेतीबाड़ी विभाग की तरफ से कृषि विज्ञान केंद्र में किसान मेले आयोजन करवाया गया.जहां आधुनिक मशीनरी और उपकरणों की प्रदर्शनी लगाई गयी. इस दौरान किसानों ने हाईब्रिड बीज और खाद की खरीददारी की.कृषि माहिर वैज्ञानिकों ने किसानों को आगामी बिजाई की जाने वाली फसलों के इलावा सब्जियों और फलों की खेती सही समय पर छिड़काव के बारे में तकनीकी जानकारी दी. इस मौके डायरेक्टर डॉ राजबीर सिंह ने कहा की किसानों को अगले सीजन की फसल की बिजाई  रखरखाव बारे जानकारी दी गयी है.उन्होंने किसानों को अपील करते कहा की पराली को जलाये नहीं बल्कि आधुनिक साधनों से उसका सही इस्तेमाल करें चूँकि पंजाब पर आरोप लगाया जाता है की नाड जलाने से राजधानी तक वायु प्रदूषण फैल जाता है इसलिए वातावरण को दूषित होने से बचाना चाहिए।   

डॉ राजबीर सिंह -डायरेक्टर 


IMG_20170920_184917.jpg
 इस दौरान पंजाबी कॉमेडियन जसविंदर भल्ला ने  किसान ख़ुदकुशी बढ़ते मामलों पर कहा की किसान को इस राह से दूर करने को उम्दा सेमीनार करवाए जाने चाहिए।इसके साथ ही किसानों को भी चाहिए की खेती के लिए कर्ज को वहीँ इस्तेमाल करना चाहिए ना की कार या ट्रेक्टर खरीदने चाहिए। उन्होंने कहा की पंजाब का किसान बहुत दलेर है और देश का अनदाता है उसे ख़ुदकुशी की राह पर नहीं चलना चाहिए। सरकारों के पास सीमित बजट होता है जिसमे से कुछ कर्ज माफ़ी में दे दिया जाता है जो नाकाफी होता है इसलिए किसान ख़ुदकुशी से बचें।


बाईट -2 जसविंदर भल्ला- पंजाबी कमेडियन 

IMG_20170920_184854.jpg

 मेले में पहुंचे किसानों ने कहा की उन्हें मेले में खेती से संबंधित भरपूर जानकारी मिली है उम्दा किस्म के बीज मिल रहे है दूसरी तरफ कुछ किसान मेले में निराश नजर आये जिनका कहना था की लंबा वक्त कतार में लगने के बावजूद भी उन्हें जो बीज खरीदने थे वो नहीं मिले और खाली हाथ लौटना पड़ रहा है.