अयोध्या में 'विवाद' पर SC का फैसला- मेंटेनेंस के लिए 2 ऑब्जर्वर नियुक्त करे HC

नई दिल्ली. अयोध्या में राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद में सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा फैसला दिया है। सर्वोच्च न्यायलय ने इलाहाबाद हाईकोर्ट को दो एडिशनल डिस्ट्रिक्ट जज अप्वाइंट करने का निर्देश दिया है। दोनों जज विवादित जगह के मेंटेनेंस के लिए ऑब्जर्वर के रोल में होंगे। चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की बेंच ने ये निर्देश दिया है। 

 

रिटायर हो चुके हैं पुराने ऑब्जर्वर

- सुप्रीम कोर्ट में कहा गया कि विवादित जगह के मेंटेनेंस के लिए दो जज नियुक्त थे।

- लेकिन, इनमें से एक रिटायर हो चुके हैं। जबकि दूसरे हाईकोर्ट में जज हो गए हैं।

- बेंच ने अपील दायर करने वाले वकील से कहा कि इलाहाबाद हाईकोर्ट के जज ही नियुक्ति करेंगे।

- सर्वोच्च न्यायालय ने 10 दिन के भीतर ही 2 जजों को ऑब्जर्वर बनाने को कहा है। 

 

क्या है विवाद

- राम मंदिर मुद्दा 1989 के बाद अपने उफान पर था। इस मुद्दे की वजह से तब देश में सांप्रदायिक तनाव फैला था। 

- देश की राजनीति इस मुद्दे से प्रभावित होती रही है।

- हिंदू संगठनों का दावा है कि अयोध्या में भगवान राम की जन्मस्थली पर विवादित बाबरी ढांचा बना था। 

- राम मंदिर आंदोलन के दौरान 6 दिसंबर, 1992 को अयोध्या में विवादित बाबरी ढांचा गिरा दिया गया था।

- इस मामले की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट चल रही है।