महेंद्र नाथ पांडेय बने, नये UP बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष

महेंद्र नाथ पांडेय नये बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष 

नई दिल्लीः काफी दिनों से उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की तरफ से प्रदेश अध्यक्ष के चेहरे की तलाश उत्तर प्रदेश के चंदौली से मौजूदा सांसद महेंद्र नाथ पांडेय पर ख़तम हुई | महेंद्र नाथ पांडेय अभी मौजूदा केंद्र में केंद्रीय मानव संसाधन विकास में राज्य मंत्री है,    
विधानसभा चुनाव के लगभग 6 महीने बाद बीजेपी हाईकमान ने गुरुवार को पार्टी के यूपी अध्यक्ष की नियुक्ति कर दी है। इस पद के लिए पार्टी ने एक ब्राह्मण चेहरा चुना है। चंदौली के सांसद महेंद्र नाथ पांडेय को नए प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी दी गई है। 

महेंद्र नाथ पांडेय फिलहाल केंद्र में राज्य मंत्री है। वे पीएम मोदी की कैबिनेट में बतौर मानव संसाधन विकास मंत्रालय में बतौर राज्य मंत्री कार्य कर रहे हैं। केंद्रीय मंत्रिमंडल में फेरबदल से ऐन पहले महेंद्र नाथ पांडेय को पार्टी प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपने से यह कयास लगाया जा रहा है कि मंत्रिमंडल से उनकी छुट्टी तय है। 

 बीजेपी ने ब्राह्मण कार्ड खेल दिया
बीजेपी ने एक व्यक्ति एक पद की नीति अपनाई थी लेकिन विधानसभा चुनाव के बाद भी डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य को प्रदेश अध्यक्ष बनाए रखा गया था। अब महेंद्र नाथ पांडेय को यह पद देकर बीजेपी प्रदेश में ब्राह्मण कार्ड खेल दिया है। बीजेपी की नजर 2019 के लोकसभा चुनाव पर है। इसके लिए बीजेपी को ब्राह्मणों के समर्थन की सख्त जरूरत है। महेंद्र नाथ पांडेय शुरू से ही संघ से जुड़े रहे है।  

बीएचयू से पढ़ाई करने के बाद महेंद्र नाथ पांडेय शिक्षण कार्यों से जुड़े रहे। 2014 के लोकसभा चुनाव में चंदौली सीट से जीतकर पहली बार लोकसभा में पहुंचे।

प्रदेश अध्यक्ष के लिए महेन्द्र नाथ पांडेय के अलावा जिन नामों पर चर्चा चल रही थी, उनमें संजीव बालियान, स्वतंत्र देव सिंह और अशोक कटारिया भी प्रमुख तौर पर शामिल थे। महेंद्र नाथ पांडेय को प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने के पीछे पार्टी के हाथ से 'ब्राह्मण वोट बैंक' को साधना तथा उनका पूर्वी यूपी से होना मुख्य वजह माना जा रहा है।