बाबा पर जेल में भी मेहरबान खट्टर सरकार, नहीं खाया खाना पूरी रात अपनी बेटियों से करते रहे बाते

रोहतक. जेल में भी खट्टर सरकार बलात्कारी बाबा पर अपनी मेहरबानी लुटाती रही। बाबा को उनके सिरसा स्थित डेरे से पंचकूला कोर्ट तक लाने के लिए हरियाणा सरकार ने दो हेलीकॉप्टर से निगरानी की। जेल में पहुंचने के बाद भी वीवीआईपी ट्रीटमेंट दी गई।

क्या क्या हुआ

-जेल पहुंचने पर बलात्कारी बाबा को सबसे पहले जेल सुपरिटेंडेंट के कमरे में ले जाया गया। जहां जेल के कई बड़े अधिकारी पहले से ही मौजूद थे।
-वहां जेल के सीरियर डॉक्टरों को बुलाया गया। करीब आधे घंटे तक बाबा के स्वास्थ्य की जांच की गई। बलात्कारी बाबा के ब्लड प्रेशर, शुगर, टेंपरेचर की जांच की गई।
-किसी भी कैदी के जेल जाने पर उसे पहले जेल के स्वास्थ्य केंद्र पर ले जाया जाता है लेकिन यहां बलात्कारी बाबा की जांच वीआईपी कमरे में कराई गई।
-सूत्रों के अनुसार, जांच के बाद बाबा को नाश्ता दिया गया। नाश्ते में फल, ब्रेड और दूध दिया गया। लेकिन बाबा ने कुछ नहीं खाया। पूरे समय वे अपनी बेटियों के साथ बातें करते रहे।
-जांच के बाद बाबा को एक बैठने के लिए एक कुर्सी दी गई। बाबा के साथ उनकी दो बेटियां जसमीत और हनीप्रीत सिंह भी थीं। बीच- बीच में बाबा जेल अधिकारियों से भी बात कर रहे थे।
-वहां से उन्हें जेल के बैरक में ले जाने के बजाय रोहतक की सुनारिया जेल के गेस्ट हाउस ले जाया गया। सरकार ने पहले ही गेस्ट हाउस को जेल में तब्दील कर दिया। गेस्ट हाउस में सभी तरह की सुविधाएं है। बलात्कारी बाबा को एसी कमरे में रखा गया है।
-रात को खाने के लिए बाबा को रोटी, पनीर की सब्जी, दाल परोसी गई। सूत्रों के अनुसार, बलात्कारी बाबा ने रात को खाना नहीं खाया है।
-देररात करीब तीन बजे तक बलात्कारी बाबा के कमरे में जेल और पुलिस के अधिकारी मौजूद थे। बाबा अधिकारियों से हालात पर खबर लेते रहे।

कमरे में बेड, आलमारी और आरओ सिस्टम रखा गया

-राम रहीम के कमरे में एक नया बेड भी रखा गया है। साथ ही लकड़ी की एक आलमारी दी गई है। जिसमें बाबा की बेटियों के राम रहीम के कपड़ों को सजा दिया है।
-बलात्कारी बाबा को नए कपड़े पहनने का शौक है। वह हर वक्त चटक रंग के कपड़ों में ही दिखना चाहता है। उसकी बेटियों ने कपड़ों के कई सेट्स पहुंचा दिए है। 
-बलात्कारी बाबा के कमरे में एक आरओ वाटर सिस्टम भी रखा गया है। आज सुबह राम रहीम के कमरे में करीब एक दर्जन अखबार पहुंचाए गए।