विधानसभा चुनाव: पंजाब भाजपा प्रधान के इस्‍तीफे से गर्मायी राजनीति, सांपला का खंडन

चंडीगढ़। पंजाब विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की पंजाब इकाई में टिकट वितरण को लेकर कलह सतह पर आ गई है। भाजपा के प्रदेश प्रधान व केंद्रीय मंत्री विजय सांपला इससे खासे नाराज हैं। सांपला ने प्रदेश प्रधान और केंद्रीय राज्यमंत्री के पद से इस्तीफे दे दिया है। हालांकि अभी इससे पार्टी नेतृत्व ने स्वीकार नहीं किया है। हालांकि अभी इस बारे में पुष्टि नहीं पाई है, लेकिन इससे पंजाब की राजनीति गर्मा गई है। दूसरी अोर, सांपला ने अपने इस्तीफे की चर्चा को कोरी अफवाह करार दिया है।
बताया जाता है कि पंजाब विधानसभा चुनाव में सांपला फगवाड़ा से सोमप्रकाश को प्रत्याशी बनाए जाने से नाराज हैं। बता दें कि पिछले दिनों सांपला की विजय संकल्प रथयात्रा के दौरान सोमप्रकाश पर विवाद करने का आरोप लगा था। सोमप्रकाश ने इसके साथ ही करीब 20-21 लोगों के खिलाफ पुलिस में मामला दर्ज कराया था। इस वजह से सांपला उनसे नाराज थे और उनको टिकट न देने की सिफारिश्ा की थी।
यह भी पढ़ें: पंजाब विधानसभा चुनाव: लंबी आएं कैप्टन, सिपाही बना कर भेज देंगे : सुखबीर
बताया जाता है कि पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए सभी प्रत्याशियों की घोषणा के बाद सांपला ने पार्टी के शीर्ष नेताआें को अपनी नाराजगी से अवगत कराया है अौर प्रदेश अध्यक्ष व केंद्रीय मंत्री पद से इस्तीफा देने की बात कही है। उनका कहना कि वह सोमप्रकाश जैसे नेता को टिकट देेना स्वीकार नहीं कर सकते अौर इससे पार्टी में गलत संदेश गया है।
इससे पंजाब विधानसभा चुनाव में उन्होंने पार्टी को नुकसान होेने की आशंका जताई है। पार्टी के कुछ सूत्रों का कहना है कि सांपला ने अपना इस्तीफा भेज दिया है, लेकिन इसे स्वीकार नहीं किया गया है। दूसरी आेर, यह भी बताया जाता है कि सांपला ने अभी आधिकारिक तौर पर इस्तीफा नहीं दिया है, बल्कि की इसकी उच्च नेताआें से इसकी पेशकश की है। लेकिन, वह सोमप्रकाश का टिकट बरकरार रहने पर यह कदम उठाने पर अड़े हुए हैं।
पार्टी सूत्रों के अनुसार, सांपला का कहना है कि प्रदेश भाजपा में अनुशासनहीनता को सहन नहीं किया जा सकता। यदि सोमप्रकाश को विधानसभा चुनाव में पार्टी उम्मीदवार बनाया गया तो अनुशासहीनता को बढ़ावा मिलेगा।
सांपला ने कहा, इस्तीफे की चर्चा कोरी अफवाह
दूसरी ओर, इस्तीफे की चर्चा गर्म हाेने पर सांपला सामने आए। उन्हाेंने अपने इस्तीफे की खबर को कोरी अफवाह करार दिया। उन्होेंने कहा कि चुनावी व्यवस्तता के कारण कुछ समय के लिए संपर्क से बाहर क्या हुआ, लोगों ने अफवाहें उड़ा दीं।
सांपला ने एक बयान जारी कर कहा है कि मेरे इस्तीफे की चर्चा मात्र अफवाहें हैं।चुनावी रणनीति को लेकर मैं एक विशेष मिशन को लेकर व्यस्त था। इस कारण मीडिया तथा कुछ साथियों के संपर्क में नहीं आ सका। इसी का फायदा उठाते हुए यह चर्चा फैला दी गई कि मैंने इस्तीफा दे दिया है।
सांपला ने कहा कि हम तो पंजाब में विजयी होकर जीत की हैट्रिक लगाने की तैयारियों में जुटे हैं। प्रदेश भाजपा इकाई के सचिव विनीत जोशी ने भी कहा है कि इन बातों में तिनका भर भी सच्चाई नहीं है। सांपला जी तो भाजपाई प्रत्याशियों को जिताने के लिए निजी तथा संगठन के तौर पर दिन रात एक कर जुटे हुए हैं।