प्रवासी भारतीय सम्मेलन में बोले मोदी ! हम पासपोर्ट का नहीं खून का रंग देखते है !

pravasisammelan.jpgएनएनआई बेंगलुरु:- बेंगलुरु 14वें प्रवासी भारतीय सम्मेलन का उद्घाटन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज बेंगलुरु पहुंचे। पीएम मोदी यहां महत्वपूर्ण भाषण दिया। मोदी ने कालेधन से लेकर दुनियाभर में भारतीयों के योगदान का जिक्र किया।दुनिया भर से 6000 से अधिक प्रतिनिधि भाग लेने पहुंचे हैं. इस कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि 14वें प्रवासी भारतीय दिवस को संबोधित करके खुशी महसूस हो रही है. यह एक ऐसा पर्व है जिसमें होस्ट भी आप हैं और गेस्ट भी आप ही हैं |

उन्होंने कहा कि विदेशों में भारतीयों को केवल संख्या की वजह से नहीं जाना जाता है बल्कि उनके योगदान के लिए उन्हें सम्मानित किया जाता है | प्रवासी भारतीय जहां भी रहे, उसे ही कर्मभूमि मानते हैं और वहां विकास के काम में योगदान देते हैं | प्रवासी भारतीय सम्मेलन का उद्धाटन करते हुए पीएम ने कहा कि हम पासपोर्ट का रंग नहीं देखते हैं, बल्कि खून का रिश्ता देखते हैं | प्रवासी भारतीयों पर हर किसी को फक्र है, वे जहां भी गए | अपनी मेहनत और काबिलियत से अलग पहचान बनाई |


'ब्रेन ड्रेन' को 'ब्रेन गेन' में बदलने की कोशिश  |

प्रधानमंत्री ने कहा कि विदेश में रोजगार ढूंढने वाले भारतीयों के लिए जल्द ही सरकार प्रवासी कौशल विकास योजना शुरू करेगी| वैसे विदेश में रहने वाले सभी भारतीयों की सुरक्षा हमारी प्राथमिकता है |

ये एक ऐसा आयोजन है जहां मेहमान भी आप ही हैं और मेजबान भी आप ही हैं | हम 'ब्रेन ड्रेन' को 'ब्रेन गेन' में बदलना चाहते हैं और इसमें प्रवासी भारतीयों का अहम रोल होगा | विकास यात्रा में प्रवासी भारतीय हमारे साथी हैं | तीन करोड़ प्रवासी भारतीय हमारे लिए बेहद आदरणीय हैं |

इस मौके पर सूरिनाम के उप-राष्ट्रपति माइकल अश्विन अधीन ने भी लोगों को संबोधित किया। अगले तीन दिनों के दौरान स्टार्ट अप, विघटनकारी नवाचार, कर्नाटक में निवेश के अवसरों सहित विभिन्न विषयों पर लगभग 10 पूर्ण अधिवेशन होंगे।राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी सोमवार को प्रवासी भारतीय पुरस्कारों का वितरण करेंगे और समापन भाषण देंगे। पूर्ण अधिवेशन को विदेश राज्यमंत्री एम जे अकबर, केंद्रीय मानव संसाधान विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर, केंद्रीय रसायन-उर्वरक मंत्री एच एन  अनंत कुमार और नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कंठ भी संबोधित करेंगे। इस कार्यक्रम में सात राज्यों के मुख्यमंत्री भी शिरकत करेंगे।

14वें प्रवासी भारतीय सम्मेलन के मुख्य अतिथि पुर्तगाल के प्रधानमंत्री एंटोनियो कोस्टा हैं।