मोदी सरकार को दूसरा झटका, अरूणाचल प्रदेश में कांग्रेस सरकार बहाल

एन.एन.आई.।केंद्र सरकार को सुप्रीम कोर्ट से बड़ा झटका लगा है। कोर्ट ने अरूणाचल प्रदेश के राज्यपाल द्वारा दिए गए सभी फैसलों को खारिज करते हुए कलीखो पुल की सरकार को असंवैधानिक करार दिया है। देश की सर्वोच्च कोर्ट ने कहा, अरूणाचल प्रदेश में 15 दिसंबर, 2015 के पहले की स्थिति को बहाल करने का आदेश दे दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा, राज्य की विधानसभा की तरफ से 9 दिसंबर के बाद लिया कोई भी फैसला मान्य नहीं होगा। कोर्ट के फैसले के बाद अब अरूणाचल प्रदेश में कांग्रेस सरकार की सरकार फिर बहाल होगी। कांग्रेस नेता और राज्य के पूर्व सीएम नबाम तुकी ने कोर्ट के इस फैसले पर खुशी जाहिर की है। नबाम तुकी ने इसे लोकतंत्र की जीत बताते हुए माइक्रो-ब्लॉगिंग साइट पर लिखा, "यह लोकतंत्र की जीत है। उन्होंने लोकतांत्रिक तरीके से चुनी हुई एक सरकार को गिराया था। कानून ने हमें और देश को बचा लिया है। " कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर सुप्रीम कोर्ट को धन्यवाद दिया है। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, धन्यवाद सुप्रीम कोर्ट, प्रधानमंत्री को लोकतंत्र के मायने समझाने के लिए। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया, सुप्रीम कोर्ट का फैसला मोदी सरकार की तानाशाही पर एक और करारा तमाचा है। उम्मीद है कि मोदी जी सीख लेंगे और लोकतांत्रिक रूप से निर्वाचित सरकारों में अब हस्तक्षेप करना बंद करेंगे। बता दें कि , इस साल अरूणाचल प्रदेश में चली राजनीतिक उठापठक के चलते केंद्र सरकार ने 24 जनवरी को वहां राष्ट्रपति शासन की सिफारिश कर दी थी। कांग्रेस ने केंद्र सरकार के इस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। अरूणाचल प्रदेश की 60 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस के 47 विधायकों में से 21 विधायकों ;2 निर्दलीय’ ने सीएम नाबाम तुकी के खिलाफ बगावत की थी। राज्य में कई हफ्तों चले राजनीतिक संकट के बाद राज्यपाल राजखोवा ने कांग्रेस के बागी नेता कालीखो पुल को 19 फरवरी को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई। कालखो को 19 बागी विधायकों, बीजेपी के 11 विधायकों और 2 निर्दलीय विधायकों का समर्थन हासिल था। बता दें कि केंद्र की मोदी सरकार को इससे पहले भी उत्तराखंड में दखल देने पर सुप्रीम कोर्ट से बड़ा झटका लग चुका है। उत्तराखंड में भी सुप्रीम कोर्ट के दखल के बाद कांग्रेस की सरकार बहाल हुई थी।